Pradhan Mantri Jan Aushadhi Kendra Yojana:इस योजना के जरिये मिलेगी दवाइयों में राहत

Pradhan Mantri Jan Aushadhi Kendra Yojana: प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना (पीएमजेएकेवाई) भारत के लोगों को सस्ती जेनेरिक दवाएं उपलब्ध कराने के लिए 2008 में भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना है। इस योजना का उद्देश्य आम लोगों, विशेष रूप से समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को सस्ती कीमतों पर गुणवत्तापूर्ण दवाएं उपलब्ध कराना और स्वास्थ्य देखभाल पर होने वाले खर्च को कम करना है।

इस योजना के तहत, सरकार उन लोगों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है जो देश भर में जन औषधि स्टोर खोलना चाहते हैं। ये स्टोर जेनेरिक दवाएं बेचते हैं, जो उनके ब्रांडेड समकक्षों की तुलना में सस्ती होती हैं, और समान गुणवत्ता और प्रभावकारिता की होती हैं। सरकार इन दुकानों पर बेची जाने वाली आवश्यक दवाओं की एक सूची भी रखती है, और उनकी कीमतें सरकार द्वारा सामर्थ्य सुनिश्चित करने के लिए तय की जाती हैं।

यह योजना देश भर के लोगों, विशेषकर दूरस्थ और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को गुणवत्तापूर्ण और सस्ती दवाएं उपलब्ध कराने में सफल रही है। 2021 तक, भारत में 7,000 से अधिक जन औषधि स्टोर हैं, और सरकार योजना की पहुंच का विस्तार करने के लिए भविष्य में ऐसे और स्टोर खोलने की योजना बना रही है।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना

योजना का नाम:प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना
लाभार्थीभारत के नागरिक
मकसदकम कीमत पर दवा उपलब्ध कराना है

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना का उद्देश्य क्या है ?

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना (पीएमजेएकेवाई) का मुख्य उद्देश्य सभी को, विशेष रूप से समाज के वंचित और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को सस्ती और गुणवत्तापूर्ण दवाएं उपलब्ध कराना है। इस योजना का उद्देश्य जन औषधि योजना के तहत देश भर में दुकानों की एक श्रृंखला बनाकर इसे प्राप्त करना है, जहां जेनेरिक दवाएं उनके ब्रांडेड समकक्षों की तुलना में काफी कम कीमत पर बेची जाती हैं।

PMJAKY का उद्देश्य स्वास्थ्य देखभाल की लागत को कम करने और आम आदमी पर वित्तीय बोझ को कम करने के लिए ब्रांडेड दवाओं की तुलना में जेनेरिक दवाओं के उपयोग को बढ़ावा देना है। इस योजना का उद्देश्य लोगों में जेनेरिक दवाओं और उनके लाभों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है।

सस्ती दवाएं प्रदान करने के अलावा, PMJAKY लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करना चाहता है, खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में, जहां स्टोर स्थित हैं। यह उन व्यक्तियों और संगठनों को वित्तीय सहायता प्रदान करता है जो जन औषधि स्टोर खोलना चाहते हैं, जिससे उनके लिए व्यवसाय शुरू करना आसान हो जाता है और अपने स्थानीय क्षेत्रों में लोगों को गुणवत्तापूर्ण दवाएं उपलब्ध करायी जाती हैं।

कुल मिलाकर, PMJAKY का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि देश के प्रत्येक नागरिक की सामाजिक-आर्थिक स्थिति की परवाह किए बिना सस्ती और गुणवत्ता वाली दवाओं तक पहुंच हो, और स्वास्थ्य देखभाल लागत को कम करने के लिए जेनेरिक दवाओं के उपयोग को बढ़ावा देना है।

PM Vani Yojana 2023: पीएम वाणी योजना के तहत भारत में सभी को मिलेगा फ्री वाई फाई इंटरनेट

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना के लाभ और विशेषताएं

  • प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना (पीएमजेएकेवाई) के कई लाभ और विशेषताएं हैं, जिनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं:
  1. सस्ती दवाओं की उपलब्धता: इस योजना का मुख्य उद्देश्य भारत के लोगों को सस्ती कीमत पर गुणवत्तापूर्ण दवाएं उपलब्ध कराना है, खासकर उन लोगों को जो महंगी ब्रांडेड दवाएं नहीं खरीद सकते हैं।
  2. उच्च गुणवत्ता वाली दवाएं: जन औषधि स्टोर्स पर उपलब्ध दवाएं उनके ब्रांडेड समकक्षों के समान गुणवत्ता और प्रभावकारिता की हैं। वे गुड मैन्युफैक्चरिंग प्रैक्टिसेज (जीएमपी) मानदंडों के अनुपालन में निर्मित होते हैं और ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) द्वारा अनुमोदित होते हैं।
  3. दवाओं की विस्तृत श्रृंखला: जन औषधि स्टोर दवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला पेश करते हैं, जिसमें सामान्य बीमारियों जैसे बुखार, खांसी, सर्दी और दर्द के साथ-साथ मधुमेह, उच्च रक्तचाप और हृदय रोगों जैसी पुरानी बीमारियों के लिए दवाएं शामिल हैं।
  4. सर्जिकल आइटम्स की उपलब्धता: दवाओं के अलावा, जन औषधि स्टोर सस्ती कीमतों पर सर्जिकल आइटम जैसे बैंडेज, सर्जिकल दस्ताने और सीरिंज भी उपलब्ध कराते हैं।
  5. रोजगार सृजन: इस योजना ने देश भर के लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा किए हैं, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में, जहां स्टोर स्थित हैं।
  6. वित्तीय सहायता: सरकार उन व्यक्तियों और संगठनों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है जो जन औषधि स्टोर खोलना चाहते हैं। इससे उनके लिए व्यवसाय शुरू करना आसान हो जाता है और उनके स्थानीय क्षेत्रों में लोगों को गुणवत्तापूर्ण दवाएं उपलब्ध होती हैं।
  7. दवाओं तक पहुंच में वृद्धि: जन औषधि स्टोरों ने लोगों के लिए गुणवत्तापूर्ण दवाओं की पहुंच में वृद्धि की है, विशेष रूप से दूरस्थ और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए, जहां स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंच सीमित है।
  • कुल मिलाकर, पीएमजेएकेवाई देश भर के लोगों को सस्ती और गुणवत्तापूर्ण दवाएं उपलब्ध कराने में सफल रहा है, जिसके परिणामस्वरूप कई व्यक्तियों और परिवारों के लिए स्वास्थ्य देखभाल की लागत में उल्लेखनीय कमी आई है।

योजना के लिए पत्रता

  • प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना (पीएमजेएकेवाई) के लिए पात्रता मानदंड जन औषधि स्टोर खोलने में रुचि रखने वाली इकाई के प्रकार के आधार पर भिन्न होता है। पात्रता मानदंड इस प्रकार हैं:
  1. व्यक्ति: कोई भी व्यक्ति जो भारत का नागरिक है और जिसकी न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 10वीं कक्षा है, जन औषधि स्टोर खोलने के लिए आवेदन करने का पात्र है। आवेदक सजायाफ्ता व्यक्ति नहीं होना चाहिए या उसका कोई आपराधिक इतिहास नहीं होना चाहिए।
  2. एनजीओ: पंजीकृत एनजीओ, चैरिटेबल ट्रस्ट और सोसायटी जन औषधि स्टोर खोलने के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। संगठन को कम से कम तीन साल के लिए पंजीकृत होना चाहिए और सामाजिक कार्य या स्वास्थ्य संबंधी गतिविधियों में अनुभव होना चाहिए।
  3. अस्पताल: सरकारी अस्पताल, निजी अस्पताल और धर्मार्थ अस्पताल अपने परिसर में जन औषधि स्टोर खोलने के लिए पात्र हैं।
  4. सरकारी एजेंसियां: केंद्र और राज्य के पीएसयू, सरकारी मेडिकल कॉलेज और सरकारी अस्पताल जैसी सरकारी एजेंसियां ​​भी जन औषधि स्टोर खोलने के लिए पात्र हैं।
  5. फार्मासिस्ट: पंजीकृत फार्मासिस्ट भी जन औषधि स्टोर खोलने के लिए आवेदन करने के पात्र हैं।
  • जन औषधि स्टोर खोलने के लिए आवेदक के पास कम से कम 120 वर्ग फुट जगह होनी चाहिए। स्थान पर्याप्त भंडारण सुविधाओं के साथ एक अच्छी तरह से प्रकाशित और आसानी से सुलभ क्षेत्र में होना चाहिए। आवेदक के पास एक वैध ड्रग लाइसेंस, टीआईएन (कर पहचान संख्या) और पैन (स्थायी खाता संख्या) कार्ड होना चाहिए।
  • कुल मिलाकर, पीएमजेएकेवाई के लिए पात्रता मानदंड यह सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि केवल वास्तविक और योग्य व्यक्तियों, संगठनों और एजेंसियों को आवश्यक अनुभव और बुनियादी ढांचे के साथ जन औषधि स्टोर खोलने और भारत के लोगों को सस्ती और गुणवत्ता वाली दवाएं प्रदान करने की अनुमति है।

ऑनलाइन आवेदन कैसे करें ?

  • प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना (PMJAKY) के लिए आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:
  1. पीएमजेएकेवाई की आधिकारिक वेबसाइट https://janaushadhi.gov.in/ पर जाएं और जन औषधि स्टोर खोलने के लिए आवेदन पत्र डाउनलोड करें।
  2. आवेदन पत्र में सभी आवश्यक विवरण भरें, जिसमें व्यक्तिगत विवरण, शैक्षिक योग्यता, स्थान की उपलब्धता और वित्तीय विवरण शामिल हैं।
  3. आवश्यक दस्तावेजों के साथ आवेदन पत्र जमा करें, जैसे वैध ड्रग लाइसेंस, टिन और पैन कार्ड, जिला नोडल अधिकारी या पीएमजेएकेवाई के राज्य नोडल अधिकारी, जैसा लागू हो।
  4. आवेदन की जांच संबंधित नोडल अधिकारी द्वारा की जाएगी और पात्र पाए जाने पर आवेदक को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा।
  5. साक्षात्कार के बाद, यदि नोडल अधिकारी आवेदक की योग्यता और बुनियादी ढांचे से संतुष्ट है, तो आवेदक को एक जन औषधि स्टोर आवंटित किया जाएगा।
  6. आवेदक को रुपये की सुरक्षा जमा राशि प्रस्तुत करनी होगी। 10,000, जो स्टोर के सफल संचालन के एक वर्ष के बाद वापस कर दिया जाएगा।
  7. जन औषधि स्टोर के आवंटन के बाद आवेदक को जन औषधि दवाओं के अधिकृत आपूर्तिकर्ताओं से दवाएं खरीदनी होंगी।
  • यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जन औषधि स्टोर खोलने की चयन प्रक्रिया पारदर्शी है, और उन आवेदकों को वरीयता दी जाती है जो समाज के कमजोर वर्गों से संबंधित हैं। नोडल अधिकारी यह सुनिश्चित करते हैं कि चयनित आवेदकों के पास स्टोर को सफलतापूर्वक चलाने के लिए आवश्यक बुनियादी ढाँचा, अनुभव और वित्तीय स्थिरता है और सस्ती कीमतों पर गुणवत्तापूर्ण दवाएँ उपलब्ध कराते हैं।
Official SiteClick Here
Home Page Click Here

3 thoughts on “Pradhan Mantri Jan Aushadhi Kendra Yojana:इस योजना के जरिये मिलेगी दवाइयों में राहत”

  1. Pingback: Top 10 Online Courses in hindi :ऑनलाइन घर बैठे कर सकते है ये कोर्स -

  2. Pingback: SSC CHSL 2023:एलसीडी/जूनियर असिस्टेंट/डीईओ/डीईओ ग्रेड ए के 1600 पद के लिए आवेदन सुरु -

  3. Pingback: E Shram Card Registration 2023: इ श्रम कार्ड ऑनलाइन आवेदन कैसे करे -

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top